Congress To Lead In Rajasthan Polls, Says ABP News-C Voter Opinion Poll | ABP News




With less than seven months to go for the crucial 2019 Lok Sabha elections, ABP News conducted the “Desh Ka Mood” survey to judge the mood of the nation. The findings in the survey highlight people’s opinion about the performance of the BJP-led NDA government and their viewpoint on the opposition parties.

The finding of the “Desh Ka Mood” states that if the Congress, the SP and the BSP come together in 2019 Lok Sabha election then the NDA will suffer a huge loss in Uttar Pradesh. Scenario 1: If SP allies with BSP, their alliance will get 42 seats and the NDA may secure 36; Congress-led UPA will only get 2. Scenario 2: If Congress joins the SP-BSP alliance, their coalition will get 56 seats, reducing the NDA to only 24 seats. Scenario 3: If Mayawati dumps Congress and SP then the BJP-led NDA will replicate its 2014 Lok Sabha election performance. The NDA will get 70 seats.
201 9 के लोकसभा चुनावों के लिए सात महीने से भी कम समय के साथ, एबीपी न्यूज़ ने देश के मूड का न्याय करने के लिए “देश का मूड” सर्वेक्षण आयोजित किया। सर्वेक्षण में निष्कर्ष भाजपा की अगुआई वाली एनडीए सरकार के प्रदर्शन और विपक्षी दलों पर उनके दृष्टिकोण के बारे में लोगों की राय को उजागर करते हैं।

“देश का मूड” की खोज में कहा गया है कि यदि कांग्रेस, एसपी और बीएसपी 201 9 लोकसभा चुनाव में एक साथ आते हैं तो एनडीए को उत्तर प्रदेश में भारी नुकसान होगा। परिदृश्य 1: यदि बीएसपी के साथ एसपी सहयोगी हैं, तो उनके गठबंधन को 42 सीटें मिलेंगी और एनडीए 36 सुरक्षित हो सकती है; कांग्रेस की अगुआई वाली यूपीए केवल 2 ही होगी। परिदृश्य 2: यदि कांग्रेस एसपी-बीएसपी गठबंधन में शामिल हो जाती है, तो उनके गठबंधन को 56 सीटें मिलेंगी, जिससे एनडीए को केवल 24 सीटें मिल जाएंगी। परिदृश्य 3: यदि मायावती कांग्रेस और एसपी को डंप करती हैं तो भाजपा के नेतृत्व वाली एनडीए 2014 के लोकसभा चुनाव प्रदर्शन को दोहराएगी। एनडीए को 70 सीटें मिलेगी।
#election commision brief#nda#upa
To Subscribe our YouTube channel here: https://www.youtube.com/user/abpnewstv

About Channel:
ABP News is a news hub which provides you with the comprehensive up-to-date news coverage from all over India and World. Get the latest top stories, current affairs, sports, business, entertainment, politics, astrology, spirituality, and many more here only on ABP News.
ABP News is a popular Hindi News Channel made its debut as STAR News in March 2004 and was rebranded to ABP News from 1st June 2012.

The vision of the channel is ‘Aapko Rakhe Aagey’ -the promise of keeping each individual ahead and informed. ABP News is best defined as a responsible channel with a fair and balanced approach that combines prompt reporting with insightful analysis of news and current affairs.

ABP News maintains the repute of being a people’s channel. Its cutting-edge formats, state-of-the-art newsrooms commands the attention of 48 million Indians weekly.

Watch Live on http://abpnews.abplive.in/live-tv
ABP Hindi: http://abpnews.abplive.in/
ABP English: http://www.abplive.in/

Download ABP App for Apple: https://itunes.apple.com/in/app/abp-live-abp-news-abp-ananda/id811114904?mt=8
Download ABP App for Android: https://play.google.com/store/apps/details?id=com.winit.starnews.hin&hl=en

Social Media Handles:
Instagram: https://www.instagram.com/abpnewstv/?hl=en
Facebook ABP News (English): https://www.facebook.com/abplive/?ref=br_rs
Facebook: https://www.facebook.com/abpnews/
Twitter: https://twitter.com/abpnewstv
Google+: https://plus.google.com/u/1/+abpnews

source

Your reaction?
Angry Angry
0
Angry
Cute Cute
0
Cute
Fail Fail
0
Fail
Geeky Geeky
0
Geeky
Lol Lol
0
Lol
Love Love
0
Love
OMG OMG
0
OMG
Win Win
0
Win
WTF WTF
0
WTF

Congress To Lead In Rajasthan Polls, Says ABP News-C Voter Opinion Poll | ABP News

Comments 34

  1. मोदी का झूठा वादा सुनके लोग बीजेपी के ऊपर विश्वास को चुका है/ और बीजेपी को हराना जरूरी है/

  2. सर्वेक्षण में परिणाम दिखाने से पहले यह बताना चाहिए कि कितनी सीटों के लिये कितने क्षेत्रो के कितने व्यक्तियों से सम्पर्क किया गया उनमें कितने % सवर्ण कितने प्रतिशत दलित कितने प्रतिशत ओबीसी कितने प्रतिशत मुस्लिम कितने प्रतिशत अन्य अल्पसंख्यक लोग थे कितने प्रतिशत शहरी कितने प्रतिशत ग्रामीण लोग थे। ये सर्वेक्षण करने वाले चैनेल एक योजना के तहत किसी एक दल के पक्ष में माहौल बनाने का कार्य करते है तगडी कीमत लेकर। कोई भी व्यक्ति अपनी वोट को खराब नहीं करना चाहता और इन सर्वेक्षणों पर विश्वास करके अपना वोट किसी दल को हराने या जिताने की इच्छा से दे सकता है। ये सर्वेक्षण फर्जी भी हो सकते हैं और क्या प्रत्येक व्यक्ति इतना स्पष्टवादी होता है कि वह जो उसके दिल में है वह स्पष्ट कर दे।

  3. यह 3महीने पहले का सर्वे है अब हालत काफ़ी बदल गए है. कांग्रेस का तीनो राज्यों मे B S P से samjota नहीं हुआ इससे कांग्रेस की हालत कमजोर हुईं है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

log in

Become a part of our community!

reset password

Back to
log in